ताज़ा खबर

उन्नाव रेप पीड़िता के पिता ने कहा- हैदराबाद के दरिंदो को जैसी सजा मिली वैसी ही उनकी बेटी के दोषियों को भी मिले

2019-12-07_RapeVictim.png

उन्नाव रेप पीड़िता ने दिल्‍ली के सफदरजंग अस्‍पताल में शुक्रवार रात करीब 11:40 बजे दम तोड़ दिया. उसके बाद पीड़िता के पिता ने बेटी के लिए न्‍याय की मांग की है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, केंद्र और राज्‍य सरकार से इंसाफ की गुहार लगाते हुए पीड़िता के पिता ने कहा, 'दरिंदों को तत्‍काल फांसी दी जाए या फिर दौड़ा-दौड़ाकर उन्‍हें मारा जाए.' उन्‍होंने मांग की कि जिस तरह हैदराबाद कांड के आरोपियों को मारा गया, ठीक वैसे ही हमारी बेटी के दरिंदों को भी मारा जाए. आरोपियों को सजा मिलने पर ही बेटी की आत्‍मा को शांति मिल सकेगी.' पीड़िता के पिता ने कहा, हमें पैसे का लालच नहीं है. हम बस आरोपियों को सजा दिलाना चाहते हैं और इंसाफ की गुहार लगा रहे हैं.

शुक्रवार की रात करीब 11:40 बजे सफदरजंग अस्पताल में उन्‍नाव रेप पीड़िता की मौत हो गई. अस्पताल के बर्न और प्लास्टिक सर्जरी विभाग के एचओडी डॉ. शलभ कुमार ने इसकी पुष्टि की. डॉ. शलभ ने बताया, रात करीब 11:10 बजे पीड़िता के हृदय ने काम करना बंद कर दिया. उसकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ और 11:40 बजे उसका निधन हो गया. सफदरजंग अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉक्टर सुनील गुप्ता के अनुसार, पीड़िता का पूरा शरीर बुरी तरह से जल गया था. अस्‍पताल के सूत्रों के अनुसार, होश में रहने के दौरान उन्‍नाव रेप पीड़िता बोलती रही, मुझे जलाने वालों को छोड़ना मत. फिर नींद में चली गई. इस तरह एक और निर्भया की मौत हो गई.

उन्‍नाव की बेटी अब हम सबको छोड़कर चली गई. वह जाना नहीं चाहती थी, लेकिन कुछ दुर्दांत लोगों ने उसे मौत के मुंह में धकेल दिया. उसके जीने की चाह को 'आग' लगा दी. पहले रेप कर उसकी 'आत्‍मा को मारा' और फिर जब जमानत पर छूटकर आए तो जिंदा जला दिया. करीब 72 घंटे की असह्य पीड़ा के बावजूद वह जीना चाहती थी. वह न्‍याय चाहती थी, लेकिन अब उसकी आस जमाने वालों की जिम्‍मेदारी बन गई है. उसे न्‍याय देना ही होगा, आरोपियों को सजा देनी ही होगी. जाते-जाते वह कहती रही- 'मैं मरना नहीं चाहती. मैं जीना चाहती हूं, आरोपियों को छोड़ना मत, उन्हें सजा जरूर दिलाना.'



loading...