मध्य प्रदेश: गावों में बदहाल है शिक्षा का स्तर, बच्चे करते हैं रोड पर पढ़ाई

मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक समेत 7 राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट, भोपाल में रेड अलर्ट जारी

मध्यप्रदेश: पूर्व सीएम शिवराज सिंह ने कहा- कांग्रेस ने शुरू की गंदी राजनीति, बीजेपी करेगी खत्म

मध्यप्रदेश में कांग्रेस के संपर्क में बीजेपी के कई विधायक, सीएम कमलनाथ से मिले ये MLA

मध्यप्रदेश: कंप्यूटर बाबा का दावा, बीजेपी के 4 विधायक मेरे संपर्क में हैं, कमलनाथ के कहने पर पेश कर दूंगा

मध्यप्रदेश: नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के बयान पर बोले कमलनाथ, आपके नंबर 1 और 2 समझदार इसलिए नहीं दे रहे आदेश

अवैध रेत खनन पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, केंद्र, पांच राज्यों और सीबीआई को जारी किया नोटिस

2017-03-11_bonelesseducation.jpg

मध्य प्रदेश के जनपद दमोह की हटा तहसील के गाँव बहेरिया टोला,टपरन टोला, इकरा टोला में स्कूलों के भवन न होने के कारण छात्र/छात्राओं को पढ़ने में दिक्कत आ रही है दिक्कत. आपको बता दें बच्चे चबूतरे पर कर रहे हैं पढ़ाई. बता दें कि कक्षा 4 की छात्रा करीना ने उन दिक्कतों के बारे में बाताया जो उसके जैसे बच्चे रोज झेलते हैं. करीना ने कहा कि हम सभी बच्चे 4 वर्षों से चबूतरे पर पढ़ाई कर रहे हैं. इसी बाबत वहां के अध्यापक ने कहा कि 2012, 2013, 2014 में विद्यालय स्वीकृत हुए थे. हम कई बार इस सम्बन्ध में प्रशासन को अवगत करा चुके हैं. लेकिन कोई भी हल अभी नहीं निकला. 

इतना ही नहीं बारिश के समय बच्चों की छुटटी करना पड़ती है क्यूंकि खुले में पढ़ने के कारण बच्चे भीग जाते हैं. इस बारे में हटा के बी आर सी प्रभारी का कहना है कि पाठशालओं के लिए वार्षिक कार्य योजना भेजे जा चुके हैं. जल्द ही प्रस्ताव पारित हो जाएगा और विद्यालय भवनों का निर्माण किया जाएगा.

प्रधान मंत्री मोदी चाहते हैं सब पढ़ें और सब बढ़ें. लेकिन बढ़ने के लिए पढ़ाई की आवश्यता होती है और पढ़ाई के लिए स्कूल की. 



loading...