सीएम योगी का बड़ा आदेश, 15 नवंबर तक गड्ढा मुक्त हों यूपी की सभी सड़कें

शिवपाल यादव के तेवर पड़े नरम, अखिलेश यादव की तरफ बढ़ाया दोस्ती का हाथ, बोले- एक हो जाएं तो बना लेंगे सरकार

कैंट सीओ धमकी मामले में सीएम योगी ने मंत्री स्वाति सिंह को लगाई फटकर, DGP ने मांगी रिपोर्ट

नोएडा में नौकरी की तलाश में आई युवती से 6 लोगों ने किया गैंगरेप, 4 आरोपी गिरफ्तार

यूपी: मृतक के परिजनों से बदसलूकी करने वाले अमेठी के DM पर गिरी गाज, अरुण कुमार नए जिलाधिकारी

यूपी: होमगार्डों की फर्जी हाजिरी और वेतन निकासी में करोड़ों का घोटाला, आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तैयारी

अयोध्या फैसले के दिन यूपी में हत्या, लूट, अपहरण, डकैती की नहीं हुई कोई भी वारदात, अधिकारियों को भी नहीं हो रहा यकीन

2019-10-18_YogiAdityanath.jpg

लखनऊ में सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश की सड़कों की स्थिति पर समीक्षा बैठक की. बैठक में उन्होंने आधिकारियों को निर्देश दिया कि 15 नवंबर तक सभी सड़कों को गड्ढा मुक्त किया जाए. सीएम योगी ने प्रदेश की खराब सड़कों पर नाराजगी जताते हुए कहा कि इसके लिए अब जवाबदेही तय की जाएगी. सीएम योगी ने इस दौरान सड़कों पर होने वाले पैचवर्क पर कहा कि ये महज औपचारिकता न रहे बल्कि उसकी गुणवत्ता पर भी विशेष ध्यान दिया जाए.

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि राष्ट्रीय मार्गों की हालत बहुत ही खराब है. जहां निमार्ण चल रहा है, वहां कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की गई है, जिससे लोग परेशान हो रहे हैं. उन्होंने एनएचएआई के अधिकारियों को गोरखपुर-वाराणसी, मऊ-गोरखपुर और मऊ-वाराणसी रोड का निरीक्षण कर रिपोर्ट तैयार करने के भी निर्देश दिए. 

उन्होंने मुख्य सचिव आरके तिवारी से इसकी समीक्षा कर अधिकारियों और ठेकेदारों के खिलाफ कार्रवाई करने और केंद्रीय सड़क और परिवहन मंत्रालय को चिट्ठी लिखने के भी निर्देश दिए हैं. समीक्षा बैठक शुरू होते ही लोक निमार्ण विभाग के प्रमुख सचिव को निर्देश दिया कि जिन जनपदों में बिना कार्य किए ही रकम निकाली गई है, वहां पर सख्त कार्रवाई की जाए. ऐसे लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई जाए.

मुख्यमंत्री ने कहा कि लोक निमार्ण विभाग द्वारा तैयार किया गया प्रहरी ऐप सभी विभाग अपने यहां लागू करें, जिससे कार्य की गुणवत्ता और समयबद्धता बनी रहेगी. उन्होंने ग्रामीण इलाकों की सड़कों की स्थिति पर भी नाराजगी जताई.

उन्होंने ग्राम्य विकास विभाग के प्रमुख सचिव को निदेर्श दिया कि गांवों की सड़कें पूरी तरह दुरुस्त करवाई जाए. उन्होंने अधिकारियों को ये निर्देश दिए कि साल 2021 में हरिद्वार में होने वाले कुंभ आयोजन से पहले प्रदेश की सड़कों की हालत दुरुस्त हो जानी चाहिए, जिससे श्रद्धालुओं को बेहतर आवागमन की सुविधा मिल सके.



loading...