ताज़ा खबर

आम चुनाव में हार के बाद आज पहली बार अमेठी जायेंगे कांग्रेस नेता राहुल गांधी

Ayodhya Verdict: हम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं लेकिन हम इस फैसले से संतुष्ट नहीं हैं: जफरयाब जिलानी

Ayodhya Verdict: इकबाल अंसारी ने कहा- सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला आएगा उसका सम्मान करेंगे, हिन्दू-मुस्लिम विवाद खत्म हो जाएगा

अयोध्या पर फैसले से पहले CJI रंजन गोगोई ने उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव और DGP के साथ की बैठक

गेस्ट हाउस कांड में मुलायम सिंह के खिलाफ केस वापस लेंगी बसपा अध्यक्ष मायावती

यूपी: योगी सरकार की भ्रष्टाचार के खिलाफ कड़ी कार्रवाई, 7 पीपीएस अधिकारियों को किया जबरन रिटायर

सुप्रीम कोर्ट ने जेपी इंफ़्राटेक को दिवालिया घोषित किया, 90 दिन में प्रक्रिया पूरी करने का आदेश

2019-07-10_RahulGandhi.jpg

कांग्रेस अध्यक्ष का पद छोड़ चुके राहुल गांधी उत्तर प्रदेश की अपनी पारंपरिक लोकसभा सीट अमेठी में मिली हार के बाद पहली बार बुधवार को वहां जाएंगे. पार्टी नेताओं ने आईएएनएस से सोमवार को कहा कि राहुल गांधी एक दिन की यात्रा पर अमेठी जाएंगे. 

एक पार्टी नेता ने कहा कि राहुल अमेठी के गौरीगंज (जिला मुख्यालय) में पार्टी कार्यकर्ताओं से मिलेंगे और हाल के लोकसभा चुनाव में हुए नुकसान के कारणों पर चर्चा करेंगे. इसके बाद वह आम लोगों से भी बातचीत करेंगे.

राहुल गांधी लोकसभा चुनाव में केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की उम्मीदवार स्मृति ईरानी से 55 हजार वोटों के अंतर से हार गए थे. हालांकि केरल की वायनाड सीट उन्होंने भारी अंतर से जीती.

कांग्रेस विधान पार्षद दीपक सिंह ने कहा, "राहुल ने अमेठी के साथ हमेशा अपने परिवार जैसा व्यवहार किया और वह अपने परिवार के सदस्यों से मिलने आ रहे हैं." उन्होंने कहा कि राहुल के दौरे का मकसद लोकसभा चुनाव में करारी हार से निराशा में डूबे कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाना है.

पार्टी सूत्र ने बताया कि राहुल अमेठी प्रभारी के रूप में के.एल. शर्मा को फिर नियुक्त कर सकते हैं. प्रियंका गांधी पिछले महीने रायबरेली के मतदाताओं को धन्यवाद देने के लिए अपनी मां व संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ पहुंची थीं. वह कांग्रेस उम्मीदवारों की जीत सुनिश्चित न कर पाने के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं पर जमकर बरसी थीं. उन्होंने महसूस किया था कि बहुत-से कार्यकर्ता वरिष्ठ नेताओं से मिलना-जुलना कम कर दिया था, जिस कारण पार्टी की यह दशा हुई.

इससे पहले, तीन सदस्यीय टीम ने अमेठी का दौरा किया था और प्रियंका गांधी को रिपोर्ट सौंपी, जिसमें पार्टी की हार के कारण बताए गए हैं. राहुल ने वर्ष 2004 से लगातार तीन बार अमेठी का प्रतिनिधित्व किया. इस बार के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश में केवल एक सीट हासिल की, जो सोनिया गांधी की रायबरेली सीट है.



loading...