ताज़ा खबर

सोनभद्र कांड: उम्भा गांव पहुंची कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, पीड़ितों का हालचाल जाना

उन्नाव केस: विधानसभा के बाहर धरने पर बैठे अखिलेश यादव, पीड़ित परिवार से मिलने उन्नाव पहुंची प्रियंका गांधी वाड्रा

उन्नाव केस: पीड़िता की मौत पर मुख्यमंत्री योगी ने जताया दुःख, बोले- मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में ले जाएंगे

उन्नाव रेप पीड़िता के पिता ने कहा- हैदराबाद के दरिंदो को जैसी सजा मिली वैसी ही उनकी बेटी के दोषियों को भी मिले

यूपी में नहीं थम रहे दरिंदगी के मामले, बुलंदशहर में नाबालिग से 3 लोगों ने किया गैंगरेप, पीड़िता अस्पताल में भर्ती

आखिरकार जिंदगी की जंग हार गई उन्नाव रेप पीड़िता, शुक्रवार रात 11: 40 बजे ली आखिरी सांस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इलाहाबाद हाईकोर्ट से बड़ी राहत, चुनाव को चुनौती देने वाली याचिका खारिज

2019-08-13_PriyankaGandhi.jpg

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा आज मंगलवार (13 अगस्त) को सोनभद्र पहुंचेंगी, जहां वह पिछले महीने हुए नरसंहार के पीड़ित परिवारों से मुलाकात करेंगी. प्रियंका गांधी के दौरे से यूपी में सियासी हलचल फिर बढ़ गई है. जानकारी के मुताबिक, यहां प्रियंका पीड़ित परिवारों से मिलकर उनका हाल जानेंगी. इस दौरान यूपी कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर समेत सभी बड़े नेता मौजूद रहेंगे.

जानकारी के मुताबिक, सुबह वह वाराणसी के बाबतपुर एयरपोर्ट पहुंचेंगी. यहां से वह सीधे सोनभद्र के लिए रवाना होंगी. सड़क मार्ग के जरिए वह करीब 1 बजे उम्भा गांव पहुंचेंगी. यहां करीब डेढ़ घंटा वह पीड़ित परिवारों के लोगों के साथ मुलाकात करके वापास वाराणसी पहुंचेंगी और फिर हवाई मार्ग से वापस दिल्ली लौटेंगी.

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र के उम्भा गांव में 17 जुलाई को हुए नरसंहार में 10 लोगों की जान चली गई थी. दरअसल, यह पूरी वारदात जमीन को लेकर शुरू हुई थी, जिसमें गांव का प्रधान और उसके भतीजे समेत करीब 32 ट्रेक्टर-ट्रालियों में 300 से अधिक लोग एक जमीन पर कब्जा करने के लिए पहुंचे थे और इस पूरी घटना ने बाद में विवाद का रूप ले लिया था, जिसमें गोली लगने से 10 लोगों की मौत हो गई थी.

घटना के बाद कांग्रेस महासचिव पीड़ितों से मिलने के लिए उत्तर प्रदेश के लिए रवाना हुईं थीं. लेकिन, प्रियंका गांधी वाड्रा को सोनभद्र पहुंचने से पहले मिर्जापुर के चुनार गेस्ट हाउस में ही रोक लिया गया था, जिसके बाद प्रियंका गांधी ने सोनभद्र पीड़ितों से मिलने के बाद ही वापस जाने की बात कही थी. इसके बाद जिला प्रशासन ने प्रियंका गांधी को 24 घंटों तक चुनार गेट पर रोककर रखा और आखिर में उन्हें पीड़ित परिवारों से मिलने दिया गया. जहां प्रियंका गांधी ने पीड़ित परिवार की महिलाओं से मुलाकात की और इन परिवारों को 10-10 लाख रुपये की आर्थिक मदद देने की घोषणा की थी. इसके साथ उन्होंने वादा किया कि जिस तरह से भी इन्हें सहायता की जरूरत होंगी कांग्रेस पार्टी इनके साथ है.



loading...