यूपी: मायावती फिर बनीं बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष, सभी 13 सीटों पर अकेले विधानसभा उपचुनाव लड़ेगी पार्टी

2019-08-28_Mayawati.jpeg

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती को एक बार फिर बहुजन समाज पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया है. बुधवार को राजधानी लखनऊ में हुई बसपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में सर्वसम्मति से यह फैसला लिया गया है. देशभर से आए प्रतिनिधियों ने मायावती को फिर से राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना. इस बैठक का मुख्य एजेंडा बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चयन था, जिसके लिए इससे संबंधित सभी जरूरी प्रक्रियाओं को पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा ने पूरा किया और सभी औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद मायावती को सर्वसम्मति से राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित किया गया.

बसपा का फिर से राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने जाने पर मायावती ने सभी लोगों का आभार प्रकट किया. साथ ही उन्होंने देशभर में पार्टी के सभी छोटे-बड़े कार्यकर्ताओं और समर्थकों को भरोसा दिलाया कि देश में खासकर दलित, आदिवासी और अन्य पिछड़े वर्गों के लिए मानवतावादी मिशन को आगे बढ़ाने के लिए वो हर प्रकार की कुर्बानी देने के लिए तैयार हैं. मायावती ने कहा कि पार्टी और मूवमेंट के हित में न तो वो कभी रुकने वाली हैं और न ही कभी झुकने वाली हैं.

वहीं बसपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक में उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा उपचुनाव को लेकर भी मंथन किया गया. सूत्रों के मिली जानकारी के मुताबिक, बैठक में विधानसभा उपचुनाव के प्रत्याशियों के नामों पर मुहर लग गई है. बहुजन समाज पार्टी अकेले सभी 13 सीटों पर विधानसभा उपचुनाव लड़ेगी. इसके लिए सभी 13 में से 12 विधानसभा सीटों पर प्रत्याशियों के नाम फाइनल हो चुके हैं.

घोसी सीट से कय्यूम अंसारी, मानिकपुर से राजनारायण निराला, हमीरपुर से नौशाद अली, जैदपुर से अखिलेश अंबेडकर, बलहा से रमेश गौतम, टूंडला से सुनील कुमार चित्तौड़, लखनऊ कैंट से अरुण द्विवेदी, प्रतापगढ़ सदर से रंजीत सिंह पटेल, रामपुर से जुबेर मसूद खान और कानपुर से देवी प्रसाद तिवारी. जलालपुर सीट से अभी प्रत्याशी के नाम का ऐलान नहीं किया गया है. सहारनपुर सीट पर मायावती को फैसला लेना है. बता दें इन सभी को जिन सीटों पर उपचुनाव होने हैं वहां का प्रभारी बनाया गया है. बसपा में जो प्रभारी होता है उसे ही टिकट मिलता है.



loading...