कमलेश तिवारी हत्याकांड में पुलिस ने सूरत से 7 संदिग्धों को हिरासत में लिया

2019-10-19_KamleshMurderCase.jpg

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में शुक्रवार को हुई हत्या के तार गुजरात से जुड़ रहे हैं. हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की हत्या मामले में सूरत पुलिस ने सात संदिग्धों को हिरासत में लिया. जानकारी के मुताबिक, सातों संदिग्धों से पुलिस ने देर रात तक पूछताछ की गई. बताया जा रहा है कि लखनऊ पुलिस भी पूछताछ के लिए सूरत आ सकती है.

सीसीटीवी फुटैज के आधार पर संदिग्धों को हिरासत में लिया गया. सूत्रों के मुताबिक, सीसीटीवी फुटेज, हत्या के वक्त इस्तेमाल किया गया. मोबाइल नेटवर्क और सूरत के मोबाइल नेटवर्क को खंगाला जा रहा है ताकि और सुराग इकट्ठा किया जा सके.

दरअसल, कमलेश की हत्या के बाद पुलिस को जो CCTV फुटेज मिला है. उसमें जो दो संदिग्ध युवक दिखाई दे रहे हैं. उनके हाथ में मिठाई का थैला दिखाई दे रहा है. इसी मिठाई के थैले से पुलिस को अहम सुराग मिला है. दरअसल, इस थैले में जो मिठाई का डब्बा मिला है, जो सूरत मशहूर धरती ब्रांड का है. पुलिस अधिकारियों का मानना है कि इसी मिठाई के डिब्बे में हथियार छिपा कर लाए गए थे.

वहीं, कमलेश तिवारी की हत्या पर यूपी में राजनीति में उबाल आ गया है. कमलेश की हत्या से हिंदू संगठनों में नाराजगी है. वहीं, कल देर आतंकी संगठन अल हिंद ब्रिगेड ने कमलेश की हत्या की जिम्मेदारी ली है. अल हिंद ब्रिगेड ने दावा किया है कि उसने कमलेश की इसलिए हत्या की क्योंकि उसने इस्लाम और मुसलमानों का अपमान किया. अल हिंद ब्रिगेड के बारे में सुरक्षा ऐजेंसियों को ज्यादा जानकारी नहीं है और अभी तक ये पता नहीं चल सका है कि ये किस आतंकी संगठन से जुड़ा हुआ है. हालांकि पुलिस ने अभी तक संगठन के दावे की पुष्टि नहीं की है.

आपको बता दें कि लखनऊ में शुक्रवार को दिन दहाड़े हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की हत्या कर दी गई थी. नाका थाना क्षेत्र इलाके में हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी पर गोलियां दागी गई थीं. वारदात को अंजाम देकर आरोपी फरार हो गए. बताया जा रहा है कि भगवा कपड़े पहने दो हमलावर हाथ में मिठाई के डिब्बा लेकर कार्यालय में घुसे और गोलियां दाग दीं थी.



loading...