Dhanteras 2019: इस बार धनतेरस पर 100 साल बाद बन रहा है महासंयोग, जानें तिथि, महत्व और शुभ मुहूर्त

2019-10-22_Dhanteras.jpg

Dhanteras 2019 का पर्व दिवाली से दो दिन पहले मनाया जाता है. इस पर्व पर खरीदारी करने का विशेष महत्‍व है. इस वर्ष धनतेरस पर्व 25 अक्‍टूबर, शुक्रवार को है.

महासंयोग- इस बार धनतेरस पर महासंयोग बन रहा है. भगवान धनवंतरि की जयंती के दिन यानी धनतेरस के दिन ही शुक्रवार है, जो महालक्ष्‍मी का दिन है, साथ ही शुक्र प्रदोष व्रत भी है. शुक्र प्रदोष और धन त्रयोदशी का महासंयोग है. इस दिन ब्रह्म व सिद्धि योग बन रहा है. इस दिन जो भी शुभ कार्य या खरीददारी की जाएगी वह हजारों गुना फल देगी.

महत्‍व- धनतेरस का पर्व दिवाली से ठीक दो दिन पूर्व मनाया जाता है. ऐसी मान्यता है कि धनतेरस यानी धनत्रयोदशी के दिन भगवान धनवंतरी का जन्म हुआ था. तभी से धनत्रयोदशी के दिन को धनतेरस के रूप में मनाया जाने लगा और इस दिन खरीददारी करना शुभ माना जाता है. इस दिन की गई खरीददारी से सौ गुना फल प्राप्‍त होता है.

त्रयोदिशी तिथि-

त्रयोदिशी तिथि आरंभ- रात 7.08 बजे से (25 अक्‍टूबर)
त्रयोदिशी तिथि समाप्‍त- दोपहर 3:46 बजे (26 अक्‍टूबर)
प्रदोष काल- शाम 6:06 बजे से रात 8:36 बजे तक (25 अक्‍टूबर)
वृषभ काल- रात 7:23 बजे से 9:23 बजे तक (25 अक्‍टूबर)

पूजा मुहूर्त-
रात 7:23 बजे से 8:36 बजे तक.
कुल समय: 1 घंटा 13 मिनट
 



loading...