JNU में उपद्रवियों ने स्वामी विवेकानंद की मूर्ति से की तोड़फोड़, उपशब्द भी लिखे

दिल्ली: नागरिकता संशोधन कानून को लेकर पुलिस से भिड़े जामिया के छात्र, खाई लाठियां, जनपथ-पटेल चौक मेट्रो स्टेशन बंद

नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध के चलते जापानी पीएम शिंजो आबे का भारत दौरा रदद्, गुवाहाटी में होनी थी शिखर वार्ता

नागरिकता संसोधन क़ानून के खिलाफ कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की अर्जी

‘रेप इन इंडिया’ बयान पर राहुल गांधी ने कहा- मैं माफी मांगने वाला नहीं हूं

नागरिकता संशोधन बिल बना कानून, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी

दिल्ली-एनसीआर में बारिश ने बदला मौसम का मिजाज, उत्तर भारत के कई राज्यों में भारी बर्फबारी

2019-11-14_JNU.jpg

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में उपद्रवियों ने उद्घाटन से पहले ही स्वामी विवेकानंद की मूर्ति को खंडित कर दिया. यही नहीं, मूर्ति के नीचे भारतीय जनता पार्टी के लिए अपशब्द भी लिख दिए. मालूम हो कि जेएनयू में फीस वृद्धि समेत दूसरी मांगों को लेकर छात्र-छात्राएं पिछले दिनों से विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं.

मूर्ति तोड़ने को लेकर बीजेपी के राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा ने आरोपियों पर सख्त कार्रवाई की मांग की है. सांसद ने कहा कि जेएनयू में देशविरोधी विचारधारा को बढ़ावा मिल रहा है. यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले राष्ट्रविरोधी तत्वों की पहचान कर इन्हें तुरंत परिसर से बाहर किया जाना चाहिए.

इससे पहले, जेएनयू में कथित फीस वृद्धि और छात्रावास ड्राफ्ट मैनुअल को लेकर छात्रसंघ के सदस्यों और विद्यार्थियों ने सोमवार को परिसर से बाहर व्यापक विरोध प्रदर्शन किया. इस दौरान पुलिस ने कथित तौर पर कुछ छात्रों और छात्राओं को धक्का दिया. इसके विरोध में छात्रों ने दिल्ली पुलिस पर फब्ती कसते हुए 'तीस हजारी, तीस हजारी' के नारे लगाए. पुलिस को भीड़ को नियंत्रित करने के लिए उन पर पानी की बौछारें करनी पड़ीं. इस प्रदर्शन की वजह से एक समारोह में जेएनयू पहुंचे मानव संसाधन विकास (HRD) मंत्री काफी समय तक फंसे रहे और वह विश्वविद्यालय से बाहर नहीं निकल सके.

जवाहरलाल नेहरू छात्रसंघ (जेएनयूएसयू) के सदस्यों और विद्यार्थियों द्वारा सोमवार को परिसर से बाहर आयोजित विरोध प्रदर्शन ऐसे समय में हुआ, जब सोमवार को विश्वविद्यालय में तीसरे दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया था. इस समारोह को संबोधित करने के लिए उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू और केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' को आमंत्रित किया गया था.


 



loading...