विडियो: दारु ठेके के खिलाफ महिलाओं ने संभाला मोर्चा, चूड़ी पहनाकर अधिकारी का पुतला फूंका

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम बाबूलाल गौर का निधन, पीएम मोदी ने जताया शोक

मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक समेत 7 राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट, भोपाल में रेड अलर्ट जारी

मध्यप्रदेश: पूर्व सीएम शिवराज सिंह ने कहा- कांग्रेस ने शुरू की गंदी राजनीति, बीजेपी करेगी खत्म

मध्यप्रदेश में कांग्रेस के संपर्क में बीजेपी के कई विधायक, सीएम कमलनाथ से मिले ये MLA

मध्यप्रदेश: कंप्यूटर बाबा का दावा, बीजेपी के 4 विधायक मेरे संपर्क में हैं, कमलनाथ के कहने पर पेश कर दूंगा

मध्यप्रदेश: नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के बयान पर बोले कमलनाथ, आपके नंबर 1 और 2 समझदार इसलिए नहीं दे रहे आदेश

2017-03-30_blow-effigy-in-mp.jpg

नरसिंहपुर जिला मुख्यालय के नजदीक ग्राम नकटुआ की महिलाओं ने हांथों में थाली-चम्मच, सिर पर काली पट्टी लगाकर जिला मुख्यालय के मुख्य मार्ग पर शराब माफिया एवं जिला प्रशासन के खिलाफ नारे बाजी की. 

दरअसल महिलाओं में शराब को लेकर आक्रोश काफी दिन से बढ़ता जा रहा था. महिला मोर्चा ने सुभाष पार्क चौक पहुंचकर आवकारी अधिकारी के पुतले को चूड़ी पहनाकर, सड़क जाम कर पुतले का दहन किया. नारी शक्ति आवकारी अधिकारी के कंट्रोल रूम पहुंची लेकिन महिलाओं के आने की ख़बर पाकर अधिकारी कार्यालय छोड़कर भाग गए. महिलओं का विरोध राज्य में बिकने वाली शराब को लेकर है.  महिलाएं चाहती हैं कि शराब तुरंत बंद की जाए. 

इसी बाबत नारी शक्ति ने कार्यालय में चूड़ी फेंकी. उसके बाद कलेक्ट्रेट पहुचंकर एक घंटे तक भजन-कीर्तन किया. आवकारी अधिकारी और कलेक्टर के फील्ड पर रहने के चलते डिप्टी कलेक्टर वंदना जाट आवकारी अधिकारी जैन के साथ पहुंची. जहाँ आक्रोश में आकर महिलाओं ने जैन को  ही चूड़ी पहनाने का प्रयास किया. इतना ही नहीं, अपना विरोध जताने के लिए महिलाओं ने चूडियां भेंट की. 

फिलहाल डिप्टी कलेक्टर वंदना जाट ने ज्ञापन लेकर महिलाओं को आश्वासन दिया है कि शीघ्र इसका पूरा निराकरण किया जाएग. किसी भी हाल में शराब दुकान नहीं खुलेगी. शांति नगर, गणेश नगर, राम नगर में शराब का ठेके  नकटुआ क्षेत्र में नहीं खोले जायेंगे और जो पहले से चल रहे हैं उन्हें बंद किया जाएगा.

क्षेत्र में बिक रही अवैध शराब के स्थान की जानकरी देते हुए सभी कारोबारियों के खिलाफ़ नामजद ज्ञापन दिया है. अवैध शराब का गोरख धंधा तुरंत बंद कराने के चलते महिलाएं सड़कों पर उतरीं जिसमें उनका साथ पुरुषों ने भी दिया.

महिलाओं के कहना था कि पहले भी इस बारे में कई बार जानकारी दी जा चुकी हैं. परन्तु जिला प्रशासन की तरफ से कोई कार्रवाही नहीं होता उन्हें प्रदर्शन करना पड़ा. अध्यक्ष लता वानखेड़े ने आशवासन दिलाया कि महिलाओं के सम्मान के साथ खिलवाड़ किसी हाल में बर्दाश्त नहीं किया जायेगा. 
 



loading...