केंद्र सरकार ने देश विरोधी गतिविधियों को लेकर TikTok और Helo को भेजा नोटिस

2019-07-18_TikTokAndHelo.jpg

केंद्र सरकार ने सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म TikTok और Hello को नोटिस जारी किया है. सरकार ने इन दोनों सोशल मीडियो प्‍लेटफॉर्मों को 21 प्रश्‍नों का एक चेतावनी पत्र भी भेजा है. सरकार ने कहा है कि अगर इन दोनों ने उचित रिस्‍पांस नहीं दिया तो इन पर कार्रवाई की जाएगी. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े स्वदेशी जागरण मंच (एसजेएम) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शिकायत की थी कि इन दोनों प्‍लेटफॉर्मों से देश विरोधी गतिविधियों को अंजाम दिया जा रहा है. उसी शिकायत को देखते हुए सरकार ने टिकटॉक और हेलो को नोटिस जारी किया है.

टिकटॉक और हेलो ने एक संयुक्‍त बयान में कहा है कि प्रौद्योगिकी के बुनियादी ढांचे को विकसित करने के लिए अगले तीन वर्षों में 1 बिलियन अमेरिकी डालर निवेश करने की उनकी योजना है. सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने राष्‍ट्रविरोधी गतिविधियों का हब बनने के आरोपों को लेकर टिकटॉप और हेलो से तत्‍काल जवाब देने को कहा है. मंत्रालय ने यह भी सुनिश्‍चित करने को कहा है कि भारतीय यूजरों का डाटा न तो अभी और न ही भविष्‍य में किसी दूसरे देश या किसी थर्ड पार्टी को ट्रांसफर की जानी चाहिए.

मंत्रालय ने फेक न्‍यूज की जांच करने के लिए की जा रही पहल और भारतीय कानूनों के अनुपालन के लिए उठाए जा रहे कदमों के बारे में भी जानकारी मांगी है. आईटी मंत्रालय ने हेलो से इस बाबत स्‍पष्‍टीकरण मांगा है कि उसने सोशल मीडिया साइट्स पर 11,000 मॉर्फ्ड राजनीतिक विज्ञापनों को लगाने के लिए अन्य मीडिया प्लेटफार्मों को एक बड़ी राशि का भुगतान किया है.



loading...