आम लोगों को महंगाई से राहत, अगस्त में 1.08 फीसदी रही थोक महंगाई दर

2019-09-16_Inflation.jpg

थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति के आधिकारिक आंकड़े सोमवार को जारी किए गए. थोक मूल्य पर आधारित मुद्रास्फीति अगस्त में पिछले महीने के 1.08 फीसदी पर बरकरार रही. पिछले साल की समान अवधि में थोक महंगाई दर 4.62 फीसदी थी. सस्ते ईंधन और खाद्य सामग्रियों के कारण थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति जुलाई महीने में कई साल के निचले स्तर 1.08 फीसदी पर आई थी.

इससे पहले जून में थोक महंगाई दर पिछले 23 महीनों के निम्न स्तर पर 2.02 फीसदी पर आ गई थी. वहीं पिछले साल जून में थोक मूल्य पर आधारित मुद्रास्फीति 5.68 फीसदी पर रही थी. तब लगातार तीसरे महीने महंगाई दर में गिरावट दर्ज की गई थी.

सरकार की तरफ से गुरुवार को अगस्त में खुदरा महंगाई और जुलाई के औद्योगिक उत्पादन के आंकड़ों को जारी किया गया था. अगस्त में खुदरा महंगाई 3.21 फीसदी पर रही है. यह जुलाई में 3.15 फीसदी थी. महंगाई दर में इजाफे के लिए सब्जियों की कीमतें जिम्मेदार रही हैं. महीने दर महीने आधार पर जुलाई में सब्जियों की महंगाई दर 2.82 फीसदी से बढ़कर 6.90 फीसदी पर पहुंच गई है जबकि बिजली और ईंधन की महंगाई दर जुलाई के -0.36 फीसदी के मुकाबले -1.7 फीसदी रही है.

अगस्त में हाउसिंग महंगाई दर 4.87 फीसदी से घटकर 4.84 फीसदी पर रही है. वहीं इसी अवधि में खाद्यानों की खुदरा महंगाई दर जुलाई के 1.31 फीसदी के मुकाबले 1.30 फीसदी रही है. जूतों और कपड़ों की खुदरा महंगाई दर 6.65 फीसदी से घटकर 1.23 फीसदी पर रही है. दालों की महंगाई दर पिछले महीने के 6.82 फीसदी से बढ़कर 6.94 फीसदी रही है. कंज्यूमर, फूड प्राइस महंगाई दर जुलाई के 2.6 फीसदी से बढ़कर 2.99 फीसदी पर आ गया है.
 



loading...